BBT Times

Latest and Breaking News Samachar in Hindi from Bikaner

सचिन तेंडुलकर ने बदली टीम की स्ट्रैटेजी और वर्ल्ड कप जीत गया भारत

1 min read


BBT Times
, 2011 वर्ल्ड कप का फाइनल. 275 चेज कर रहे भारत का तीसरा विकेट गिरा 114 पर. 35 रन बनाकर आउट हुए विराट कोहली की जगह फैंस ने मैदान पर आते देखा महेंद्र सिंह धोनी को. लोग चौंक गए, क्योंकि नंबर पांच पर तो युवराज सिंह आते थे. ख़ैर, धोनी आए और गौतम गंभीर के साथ मिलकर 41.2 ओवर में टीम को 223 पर पहुंचा दिया. अंत में धोनी 91 रन बनाकर नॉटआउट रहे और भारत वर्ल्ड चैंपियन बन गया. नुवान कुलासेकरा की बॉल पर मारा धोनी का छक्का कल्ट है. सदियों तक इसे देखा जाएगा.



उस वक्त बात चली कि धोनी ने खुद को प्रमोट कर एक मास्टरस्ट्रोक चला. इस घटना के लगभग नौ साल बाद अब इस मास्टरस्ट्रोक के पीछे की बात सामने आई है. सचिन तेंडुलकर और विरेंदर सहवाग ने इस पूरे मामले पर बड़ा खुलासा किया है.

# सचिन का मास्टरस्ट्रोक

‘टाइम्स ऑफ इंडिया’ से बात करते हुए सचिन ने कहा,

‘गौतम और विराट के बीच की पार्टनरशिप सही चल रही थी और हम विपक्षियों से एक कदम आगे रहना चाहते थे. तभी मैंने वीरू से कहा- अगर एक लेफ्टी (गौतम) आउट हुआ, तो एक लेफ्टी (युवी) को जाना चाहिए और अगर एक राइटी (विराट) आउट हो, तो एक राइड हैंडर (धोनी) को जाना चाहिए. युवी गज़ब की फॉर्म में था, लेकिन श्रीलंका ने दो ऑफ-स्पिनर लगा रखे थे, इसलिए मैंने सोचा कि स्ट्रैटेजी में बदलाव शायद काम आ जाए.’

सहवाग ने इस मामले पर बात करते हुए कहा कि इस चाल ने श्रीलंका को चौंका दिया. वे सही से रिएक्ट ही नहीं कर पाए.

सहवाग ने कहा,

‘सचिन सही थे, लेफ्ट-राइट कंबिनेशन का चलते रहना बेहद जरूरी था. स्ट्रैटेजी में हुए इस बदलाव ने श्रीलंका को चौंका दिया.’

सचिन ने बात आगे बढ़ाते हुए कहा,

‘दो अच्छे ऑफ-स्पिनर्स अटैक पर थे, इसलिए ये लेफ्ट-राइट कंबिनेशन जरूरी लग रहा था. गौतम बेहतरीन बैटिंग कर रहा था और धोनी जैसा बल्लेबाज स्ट्राइक रोटेट कर सकता था. इसलिए मैंने वीरू से कहा- तू ओवर्स के बीच में सिर्फ ये बात बाहर जाकर MS को बोल और नेक्स्ट ओवर शुरू होने से पहले वापस आजा. मैं यहां से नहीं हिलने वाला.’

इसके बाद सहवाग ने बताया कि कैसे सचिन ने खुद ही धोनी से यह बात कही.

सहवाग ने कहा,

‘सचिन अपनी बात पूरी कर पाते, उससे पहले ही हमने देखा कि MS ड्रेसिंग रूम में आ गया. इसलिए सचिन ने ठीक वही बात MS से कही, मेरे सामने.’

सचिन की बात सुनने के बाद धोनी कोच गैरी कर्स्टन के पास गए. सचिन ने आगे बताया,

‘मैंने MS से इस स्ट्रैटेजी पर चलने के लिए कहा. इसके बाद वह गैरी कर्स्टन के पास गया, जो कि बाहर बैठे थे. फिर गैरी अंदर आए और हम चारों ने बात की. गैरी भी इस बात पर राज़ी थे कि यह करना ही चाहिए. MS भी तैयार हुए और उन्होंने खुद को प्रमोट किया.’

और इसके बाद हमने धोनी को कुलासेकरा की बॉल पर लॉन्ग-ऑन की तरफ छक्का मारते देखा. जिस छक्के के बाद पूरा देश जश्न में डूब गया और 28 साल बाद हम एक बार फिर से वर्ल्ड चैंपियन बन गए.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*

code

यह देखना न भूलें !



DESIGN BY : INDIA HOSTING DADDY

Live Updates COVID-19 CASES