BBT Times

Latest and Breaking News Samachar in Hindi from Bikaner

“अनुसूचित जाति आरक्षण की समीक्षा व वंचित को मिले अलग आरक्षण पर सुप्रीम कोर्ट की सहमति।”

1 min read

BBT Times ,



दिनांक 22,अप्रैल 2020 को माननीय सुप्रीम कोर्ट ने एक टिप्पणी में कहा की आरक्षण का सिद्धांत ही जरूरतमंदों तक लाभ पहुंचाना है । इसलिए अनुसूचित जाति एवं जनजाति की नई
सूची बना कर वंचितो को लाभान्वित किया जाये ।इसका स्वागत करते हुए राष्ट्रीय वाल्मीकि क्रान्ति कारी मोर्चा ,राजस्थान के प्रदेशाध्यक्ष शान्ति लाल जावा ने कहा की
हमारे देश को आजाद हुए बहत्तर वर्ष से ज्यादा हो चुके लेकिन आज भी हमारा शोषित वंचित समुदाय , स्वच्छकार समुदाय बेहद बदहाली भरा जीवन जी रहा है़ . हमारे शोषित वंचित समुदायों को ना ही आरक्षण का कोई फायदा हो पाता है़ और ना शासन द्वारा लागू की गयी योजनाओं का लाभ . आज पूरे देश के सभी मानवतावादी यह बात अच्छी तरह से जानते है़ कि इस देश का वास्तविक दलित हमारा “शोषित वंचित समुदाय” है़ जो देश की मलिन बस्तियों मे रह रहा है़ लेकिन आरक्षण का सारा फायदा “एक वर्ग विशेष ” जाति को मिलता है़ , जो पॉश कालोनियों मे आराम से रह रहा है़ . हमारा शोषित वंचित समुदाय , स्वच्छकार समुदाय आज भी उसी हाल मे पड़ा है़ जहॉ वह सदियों पहले था .
आज सभी मानवतावादीयों का यह प्रथम कर्तव्य बनता है़ कि जिन शोषितों वंचितों की बदहाली दिखाकर आरक्षण की व्यवस्था दी गयी थी उन शोषितों वंचितों को भी आरक्षण का लाभ प्राप्त हो , आरक्षण का लाभ इसके वास्तविक हकदारो तक भी पहुंचे . अगर आजादी के बहत्तर वर्ष बाद भी आरक्षण का लाभ उसके वास्तविक हकदारो तक नही पहुंचेगा तो फिर कब पहुंचेगा ? आज “कुलीन दलितों “की तीसरी पीढ़ी आरक्षण का लाभ उठा रही है़ लेकिन शोषितों वंचितों , स्वच्छकार समुदाय की पहली पीढ़ी भी आरक्षण का लाभ प्राप्त नही कर सकी है़ जोकि बेहद “अमानवीय” है़ !
अतः सभी मानवतावादीयों से विनम्र निवेदन है़ कि हमारे शोषित वंचित समुदाय , स्वच्छकार समुदाय के प्रति मानवीय दृष्टिकोण अपनाते हुए हमारे समुदाय को आरक्षण का लाभ दिलाने के प्रयासों मे सहयोग करे !

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*

code



DESIGN BY : INDIA HOSTING DADDY

Live Updates COVID-19 CASES