BBT Times

Latest and Breaking News Samachar in Hindi from Bikaner

RTGS, NEFT मनी ट्रांसफर में देरी होने पर बैंक को देना होगा जुर्माना/RBI का नियम ! जाने पूरी ख़बर

1 min read

BBT Times, बीकानेर



बीकानेर। पैसे ट्रांसफर करने के कई तरीके हैं, जिसमें से RTGS और NEFT सबसे प्रमुख हैं। एक अकाउंट से दूसरे अकाउंट में पैसा भेजने के लिए यह सबसे सुविधाजनक प्रोसेस है। ग्राहक बैंक जाकर या नेट बैंकिग से RTGS और NEFT प्रोसेस के जरिए पैसा ट्रांसफर कर सकते हैं। हालांकि ज्यादातर लोग फोन पे, गूगल पे जैसे ऐप्स के जरिए पैसा ट्रांसफर करने लगे हैं, जिसमें IMPS के जरिए पैसा ट्रांसफर होता है। इसमें पैसा तुरंत ट्रांसफर हो जाता है, जिसमें रिसीवर अकाउंट में तुरंत पैसा ट्रांसफर होता है। ग्राहक बैंक व नेट बैंकिग से भी IMPS प्रोसेस के जरिए पैसा ट्रांसफर कर सकते हैं।
कई बार पैसा ट्रांसफर करने में पैसा अटक जाता है, जिसकी कई वजहे होती हैं। ऐसे में सवाल ये आता है कि इसको लेकर RBI (Reserve Bank of India) के क्या नियम हैं। RBI के अनुसार RTGS और NEFT के द्वारा पैसे ट्रांसफर करने पर अगर ग्राहक का पैसा अटक जाता है तो तय समय के अंदर ट्रांजेक्शन सेटलमेंट हो जाना चाहिए। अगर ऐसा नहीं होता है तो बैंक को इसके लिए ग्राहक को जुर्माना देना पड़ेगा।
NEFT के जरिए पैसा ट्रांसफर करने के बाद अधिकतम 2 घंटे का समय दिया गया है, जिसके अंदर पैसा ट्रांसफर हो जाना चाहिए। अगर ऐसा नहीं होता है तो इन्ही 2 घंटे के अंदर जिस ग्राहक ने पैसा ट्रांसफर करने की प्रोसेस की है उसी के अकाउंट में पैसा रिटर्न आ जाना चाहिए। अब अगर इन 2 घंटों में पैसों का सेटलमेंट नहीं होता है और पैसा अटका रहता है तो बैंक को इसके लिए ग्राहक को जुर्माना देना पडे़गा।
RTGS के जरिए पैसा ट्रांसफर करने को लेकर RBI का नियम कहता है कि पैसा रियल टाइम में ट्रांसफर हो जाना चाहिए। अगर ऐसा नहीं होता है तो एक घंटे के अंदर या तो पैसा ट्रांसफर हो जाए या फिर पैसा ट्रांसफर करने की प्रोसेस करने वाले ग्राहक के अकाउंट में वापस आ जाए। इस समय के बाद भी अगर पैसा पैसों का सेटलमेंट नहीं होता है और पैसा अटका रहता है तो बैंक को इसके लिए ग्राहक को जुर्माना देना पडे़गा।
RBI के अनुसार RTGS और NEFT के द्वारा पैसे ट्रांसफर करने पर अगर ग्राहक का पैसा अटक जाता है तो तय समय के अंदर ट्रांजेक्शन सेटलमेंट हो जाना चाहिए। अगर ऐसा नहीं होता है तो बैंक को इसके लिए ग्राहक को जुर्माना देना पड़ेगा। जुर्माने की राशि रैपो रेट पर निर्भर करेगा, जिसके साथ 2% ब्याज भी देना पड़ता है। वर्तमान में रेपो रेट 4.90% है, जिसके साथ 2% ब्याज भी बैंक को देना पड़ेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*

code

यह देखना न भूलें !



DESIGN BY : INDIA HOSTING DADDY

Live Updates COVID-19 CASES