BBT Times

Latest and Breaking News Samachar in Hindi from Bikaner

नोएडा के ट्विन टावर मलबे में तब्दील:3700 किलो बारूद से जमींदोज हुईं 32 और 29 मंजिला इमारतें, करीब 15 करोड़ में बिकेगा मलबा

1 min read

BBT Times, नई दिल्ली



नई दिल्ली, नोएडा के सेक्टर 93 में बने सुपरटेक के अवैध ट्विन टावर दोपहर ढाई बजे ढहा दिए गए। 100 मीटर से ज्यादा ऊंचाई वाले दोनों टावर को गिरने में सिर्फ 12 सेकेंड का वक्त लगा। ब्लास्ट से पहले करीब 7 हजार लोगों को एक्सप्लोजन जोन से हटाया गया। सबसे पहले देखिए ट्विन टावर गिरने के वक्त एक्सप्लोजन साइट पर नजारा कैसा था…
ट्विन टावर गिरने के तुरंत बाद धूल का बड़ा गुबार उठा, जिसके बाद आसपास की इमारतें दिखनी ही बंद हो गईं।
ट्विन टावर गिरने के तुरंत बाद धूल का बड़ा गुबार उठा, जिसके बाद आसपास की इमारतें दिखनी ही बंद हो गईं।
टावर गिरने के बाद प्रशासन के क्लियरेंस तक 5 रास्तों पर ट्रैफिक की आवाजाही रुकी रहेगी। यहां नोएडा पुलिस के 560 से ज्यादा जवान तैनात हैं। इमरजेंसी के लिए एंबुलेंस भी तैनात की गई थी। ब्लास्ट के बाद इलाके में पॉल्यूशन लेवल मॉनिटर करने के लिए स्पेशल डस्ट मशीन लगाई गई हैं।
धमाके के दौरान बनाए गए वीडियो में दोनों टॉवर ब्लास्ट से गिरते हुए नजर आ रहे हैं। पास की सभी सोसायटी खाली करा ली गई थीं।
धमाके के दौरान बनाए गए वीडियो में दोनों टॉवर ब्लास्ट से गिरते हुए नजर आ रहे हैं। पास की सभी सोसायटी खाली करा ली गई थीं।
अपडेट्स…
ट्विन टावर के पास की दो सोसायटी में ब्लास्ट से पहले रसोई गैस और बिजली सप्लाई बंद कर दी गई थी।
नोएडा पुलिस ने एहतियातन ग्रीन कॉरिडोर बनाए थे। एम्बुलेंस भी मौके पर तैनात की गई थीं।
एक्सप्लोजन जोन में 560 पुलिस कर्मी, रिजर्व फोर्स के 100 लोग और 4 क्विक रिस्पांस टीम समेत NDRF टीम भी तैनात की गई।
दोपहर 2.15 बजे एक्सप्रेस-वे को बंद किया गया। आधे घंटे बीतने के बाद प्रशासन की सलाह पर ही इसे खोला जाएगा।
एक्स्प्रेस वे के अलावा 5 और रूट बंद किए गए हैं। आसपास के रास्तों पर धूल हटने के बाद ही इन्हें खोला जाएगा।
ट्रैफिक डायवर्जन के लिए नोएडा ट्रैफिक पुलिस ने हेल्पलाइन नंबर 99710 09001 जारी किया है।
पांच पॉइंट्स में जानिए ट्विन टावर कैसे बने, क्यों और किस तरह टूटे
1.10 मंजिल की इजाजत, 40 मंजिल के दो नए टावर बना दिए
2004 में नोएडा अथॉरिटी ने सुपरटेक को हाउसिंग सोसाइटी बनाने के लिए प्लॉट अलॉट किया था। 2005 में बिल्डिंग प्लान मंजूर हुआ। इसमें 10 मंजिल के 14 टावर बनाने की इजाजत थी। 2006 में सुपरटेक ने प्लान में बदलाव कर 11 मंजिल के 15 टावर बना लिए। नवंबर 2009 में प्लान फिर बदलकर 24 मंजिल के दो टावर शामिल कर लिए गए। मार्च 2012 में 24 मंजिल को बढ़ाकर 40 कर लिया। जब रोक लगी, तब तक इनमें 633 फ्लैट बुक हो चुके थे।
2. हाई कोर्ट ने 8 साल पहले ट्विन टावर गिराने का आदेश दिया
टावर से सटी एमरेल्ड गोल्ड सोसाइटी के रेसिडेंट वेलफेयर एसोसिएशन प्रेसिडेंट उदयभान सिंह तेवतिया ट्विन टावर का मामला कोर्ट में ले गए थे। उन्होंने 2012 में अवैध निर्माण के खिलाफ इलाहाबाद हाई कोर्ट में याचिका लगाई थी। हाई कोर्ट ने 2014 में ट्विन टावर को अवैध घोषित कर गिराने का आदेश दिया। कहा कि जिन लोगों ने यहां फ्लैट बुक किए हैं, उन्हें 14% ब्याज के साथ उनका पैसा लौटाया जाए।
3. सुप्रीम कोर्ट ने अगस्त 2021 में टावर गिराने का आदेश दिया, गिरे अब
सुपरटेक बिल्डर ने इसे सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी। सुप्रीम कोर्ट ने इलाहाबाद हाईकोर्ट के फैसले को सही ठहराया और 31 अगस्त 2021 को आदेश दिया कि तीन महीने के अंदर यानी नवंबर 2021 को टावर गिरा दिए जाएं। नोएडा अथॉरिटी ने कोर्ट में कहा कि 22 मई 2022 तक ये काम कर लिया जाएगा। आखिर में इसकी तारीख 28 अगस्त 2022 तय हुई। याचिका लगाने वाले तेवतिया के मुताबिक, टावर टूटने के के फायदे 3 महीने बाद दिखने लगेंगे।
4. गिराने के लिए दो कंपनियों से करार, इनमें एक साउथ अफ्रीका की
टावर गिराने का काम भारत की एडिफाइस और साउथ अफ्रीका की कंपनी जेट डिमोलिशन को मिला। जेट कंपनी को मुश्किल डिमोलिशन के 5 अवार्ड मिल चुके हैं। वह जोहान्सबर्ग में 108 मीटर ऊंची बैंक ऑफ लिस्बन की बिल्डिंग, साउथ अफ्रीका में ही एक पावर स्टेशन और राजधानी प्रिटोरिया में घनी आबादी में बने 14 मंजिला ट्विन टावर गिरा चुकी है। एडिफाइस भी गुजरात का ओल्ड मोटेरा स्टेडियम गिरा चुकी है।
5. टावर में 9800 छेद किए, हर छेद में करीब 1400 ग्राम बारूद भरा गया
एडिफाइस के डायरेक्टर उत्कर्ष माहेश्वरी के मुताबिक, सुपरटेक का एक टावर 29 और दूसरा 32 मंजिला है। दोनों टावरों में 9800 छेद किए गए। हर छेद में करीब 1400 ग्राम बारूद डाला गया। कुल 3700 किलो बारूद इस्तेमाल हुआ। इसमें 325 किलो सुपर पावर जेल, 63,300 मीटर सोलर कार्ड, सॉफ्ट टयूब, जिलेटिन रॉड, 10,900 डेटोनेटर और 6 IED शामिल हैं। इस पर करीब 17.55 करोड़ रुपए खर्च हुए। यह खर्च भी सुपरटेक से ही लिया जाएगा।
घनी आबादी के बीच मौजूद ट्विन टावर के पास की इमारतों को खाली कराने के बाद उन्हें खास कपड़े से ढंका गया था, ताकि मलबे से उन्हें नुकसान न पहुंचे।
घनी आबादी के बीच मौजूद ट्विन टावर के पास की इमारतों को खाली कराने के बाद उन्हें खास कपड़े से ढंका गया था, ताकि मलबे से उन्हें नुकसान न पहुंचे।
सुबह 9.55 बजे: धूल हटाने के लिए 15 स्मॉग गन लगाई गईं। हवा में प्रदूषण की जांच के लिए 6 एयर क्वालिटी इंडेक्स मशीनें मौजूद हैं। 6 हॉस्पिटल स्टैंडबाय रखे गए।
सुबह 9.55 बजे: धूल हटाने के लिए 15 स्मॉग गन लगाई गईं। हवा में प्रदूषण की जांच के लिए 6 एयर क्वालिटी इंडेक्स मशीनें मौजूद हैं। 6 हॉस्पिटल स्टैंडबाय रखे गए।
एक्सप्लोजन जोन के पास NDRF की टीम भी तैनात की गई, ताकि ब्लास्ट या उसके बाद किसी आपात स्थिति में तुरंत मदद पहुंचाई जा सके।
एक्सप्लोजन जोन के पास NDRF की टीम भी तैनात की गई, ताकि ब्लास्ट या उसके बाद किसी आपात स्थिति में तुरंत मदद पहुंचाई जा सके।
एक्सप्लोजन जोन की निगरानी के लिए CCTV कैमरे
एक्सप्लोजन जोन की निगरानी के लिए एक बस में मोबाइल इंसिडेंट कमांड सेंटर बनाया गया है। इसकी जिम्मेदारी सेंट्रल नोएडा के DCP एस राजेश संभाल रहे हैं। उन्होंने बताया कि हमने ट्विन टावर के आसपास एक्सक्लूजन जोन बनाया है। यहां सुबह 7 बजे से बैरिकेडिंग कर दी गई। सारी तैयारियां होने के बाद एक टीम पूरा चेक करेगी। ट्विन टावर के सामने और आसपास 7 सीसीटीवी कैमरे लगाए हैं। इनके फीड कमांड सेंटर में मिलते रहेंगे। उन्हें ऑब्जर्व किया जाएगा।
सुबह 7.55 बजे: सेंट्रल नोएडा के DCP एस राजेश ने बताया कि एक्सप्लोजन जोन में कोई न आ सके, इसकी मॉनीटरिंग के लिए कैमरे लगाए गए हैं।
सुबह 7.55 बजे: सेंट्रल नोएडा के DCP एस राजेश ने बताया कि एक्सप्लोजन जोन में कोई न आ सके, इसकी मॉनीटरिंग के लिए कैमरे लगाए गए हैं।
सुबह 7.35 बजे: एक NGO की टीम ने एक्सप्लोजन जोन में घूम रहे लगभग 30-35 कुत्तों को सुरक्षित जगहों पर पहुंचाया।
सुबह 7.35 बजे: एक NGO की टीम ने एक्सप्लोजन जोन में घूम रहे लगभग 30-35 कुत्तों को सुरक्षित जगहों पर पहुंचाया।
सुबह 7.30 बजे: एमराल्ड कोर्ट और एटीएस विलेज सोसाइटी के लगभग 7 हजार निवासियों को निकाला गया। इसके बाद यहां क्रेन आने लगीं।
सुबह 7.30 बजे: एमराल्ड कोर्ट और एटीएस विलेज सोसाइटी के लगभग 7 हजार निवासियों को निकाला गया। इसके बाद यहां क्रेन आने लगीं।
सुबह 7 बजे : पुलिस ने सेक्टर 93A, नोएडा में सुपरटेक ट्विन टावर्स के आसपास के क्षेत्र को खाली करने का अनाउंसमेंट किया।
सुबह 7 बजे : पुलिस ने सेक्टर 93A, नोएडा में सुपरटेक ट्विन टावर्स के आसपास के क्षेत्र को खाली करने का अनाउंसमेंट किया।
भारत में इससे पहले इम्प्लोसिव टेक्नीक से इतना बड़ा डिमोलिशन कभी नहीं हुआ

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*

code

यह देखना न भूलें !



DESIGN BY : INDIA HOSTING DADDY

Live Updates COVID-19 CASES